मेरा वादा ( My promise)

कल वादा किया खुद से और आज टूट गया तो क्या ,
मैं फिर कोसिस करूँगा, और फिर वादा करूँगा।  

देखता हूँ ये कब तक पूरा नहीं होता,
जब तक पूरा नहीं होता, मैं लगा रहूँगा। 

हो सकता है वादा हि गलत हो तो क्या ,
सोचा है, विचारा है , गलत कैसे होगा। 

आज पूरा नहीं होगा तो कब होगा ,
इसको पूरा होना होगा , यही जिद है।  

..

Yesterday I made a promise to myself ,
and if it broken today then what ,
I will try again and make the 
same promise again. 

Let me see , it have to be compete,
I will keep going until its completion. 

I may be possible that promise itself is wrong, 
but made it with all analysis then why its wring !!!

I need to be completed. 
it must need a completion and I am stick on it. 

No comments:

Post a Comment

Popular Posts